Select Page

देहरादून
बाबा केदारनाथ के दर्शन के बाद पीएम मोदी ने शुक्रवार को एक जनसभा को भी संबोधित किया। उन्होंने कहा कि जब 2013 में आपदा आई थी, मैं अपने आपको रोक नहीं पाया और यहां चला आया था। उस समय मैं पीएम नहीं, गुजरात का सीएम था। मैंने तत्कालीन सरकार (कांग्रेस की सरकार) से पुनर्निर्माण कार्यों की पेशकश की थी। कमरे में सभी सहमत हो गए लेकिन मेरे उस प्रस्ताव से दिल्ली में ‘भूचाल’ आ गया था। लेकिन बाबा ने तय किया था कि यह काम मुझे ही करना है। पीएम मोदी ने प्राकृतिक आपदा के शिकार लोगों का जिक्र किया और पीड़ितों को श्रद्धांजलि भी दी।

पीएम ने ‘जय जय केदार’ के उद्घोष के साथ अपना भाषण शुरू किया। उन्होंने स्थानीय भाषा में लोगों से नमस्कार किया। मोदी ने कहा कि बाबा ने फिर एक बार मुझे बुला लिया। आज कुछ पुराने लोग मिले और उन्होंने बीती घटनाओं का जिक्र किया। पहले मैं यहां ज्यादा समय तक रुक नहीं पाया पर शायद बाबा ने तय किया होगा कि मुझे 125 करोड़ लोगों की सेवा करनी है। पीएम ने कहा, ‘बाबा के दर्शन कर आज मैं दृढ़ संकल्प होकर 2022 तक नया भारत बनाने के लिए काम करूंगा। मुझे उम्मीद है कि बाबा के आशीर्वाद से हर हिन्दुस्तानी इस काम में जी जान से जुटेगा।’

आधुनिकता के साथ पौराणिकता का भी ख्याल
पीएम ने 5 विकास परियोजनाओं का उद्घाटन किया। उन्होंने बताया कि आपदा के बाद नई केदारपुरी के विकास और पुनर्निर्माण का खांका खींचा गया है। अब पुरोहितों को जो मकान मिलेंगे, वे 3 इन 1 होंगे। बिजली, पानी और स्वच्छता का पूरा प्रबंध होगा। आरसीसी सड़क को चौड़ा किया जाएगा। पोस्ट ऑफिस, बैंक आदि की पूरी व्यवस्था की जाएगी। ऐसी व्यवस्था बनाई जाएगी कि समय के हिसाब से भक्ति संगीत बजता रहे। मंदाकिनी और सरस्वती के तट को लाइटिंग के साथ बेहतर किया जाएगा, जिससे लोग वहां बैठ सकें और नदी के स्वर को सुन पाएं। उन्होंने कहा कि निर्माण में आधुनिकता के साथ पौराणिकता का भी ख्याल रखा जाएगा।

अधिक पढ़ें